भारतीय संविधान राज व्यवस्था

भारतीय राजव्यवस्था

         भारतीय संविधान के निर्माण के चरण

रेगुलेटिंग एक्ट 1773

इस एक्ट को 1773 में वारेन हेस्टिंग ने पारित किया

यह अधिनियम भारतीय संविधान के विकास की प्रक्रिया का प्रारंभिक चरण है ।
इस समय ब्रिटेन का प्रधानमंत्री लार्ड नार्थ थे
बंगाल के गवर्नर को गवर्नर जनरल का पदनाम दिया गया
बंगाल का प्रथम गवर्नर जनरल वारेन हेस्टिंग्स
1774 के फोर्ट विलियम (कोलकाता)में अपेक्स न्यायालय के रूप में उच्चतम न्यायालय की स्थापना की गई
ईस्ट इंडिया कंपनी के क्रियाकलापों को ब्रिटिश शासन के नियंत्रण में ले लिया गया
भारत में केंद्रीय प्रशासन की नींव रखी गई
पिट्स इंडिया एक्ट 1784
नियंत्रण मंडल का गठन हुआ
द्वैध शासन की शुरुआत हुई जो 1858 तक जारी रही
   1793 का चार्टर एक्ट
नियंत्रण मंडल के सदस्यों व कर्मचारियों को वेतन भारतीय राजव्यवस्था से दिए जायेगा
यह व्यवस्था 1919 तक जारी रही
   1813 का चार्टर एक्ट
कंपनी के भारतीय व्यापार का एकाधिकार को आंशिक रूप से समाप्त कर दिया गया ।
और भारतीयों पर एक लाख रूपय की धनराशि का प्रावधान प्रतिवर्ष शिक्षा हेतु किया गया
ईसाई धर्म प्रचारको को भारत में धर्म प्रचार की अनुमति दी गई
1833 का चार्टर एक्ट
कंपनी का व्यापारिक अधिकार पूर्ण को समाप्त कर दिया गया
और चीन के साथ व चाय के व्यापार के एकाधिकार को भी समाप्त कर दिया गया ।
बंगाल का गवर्नर जनरल भारत का गवर्नर जनरल पद नाम से जाने जाना लगा।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *